आप इन्‍टरनेट पर हिन्‍दी में अच्‍छे-अच्‍छे आर्टीकल पढना चाहते हैं, लेकिन उनको सर्च नहीं करा पाते है या उनको खोज नहीं पाते हैं, इसका मुख्‍य कारण यह है कि आप हिन्‍दी में सर्च करते ही नहीं है आप केवल इंगलिश में ही सर्च करते हैं, उदाहरण के लिये अगर आपको कम्‍प्‍यूटर के बारे में जानकारी चाहिये तो आप गूगल सर्च में इंगलिश में "Learn Computer" ही टाइप करते हो, अगर आप हिन्‍दी में सर्च करें, तो इन्‍टरनेट के हिन्‍दी खजानों तक भी आपकी पहॅुच बन सकती है, मगर कैसे आईये जानते है -

इन्‍टरनेट पर इंगलिश की तरह हिन्‍दी में हजारों वेबसाइट और ब्‍लॉग हैं जिन पर एक से बढकर एक जानकारी और लेख हैं लेकिन वह सब पाठकों की कमी से जूझ रहे हैं, कारण यूजर्स द्वारा हिन्‍दी में सर्च ना करना। इसकी कई वजह हैं - 

जैसे अधिकतर यूजर्स को हिन्‍दी टाइप आती ही नहीं है- यह बात सही है कि अधिकतर यूजर्स को हिन्‍दी टाइप नहीं आती है, लेकिन सोचिये कितने यूजर्स इंगलिश टाइप जानते हैं, जीहॉ माना कि अब हर घर में कम्‍प्‍यूटर है लेकिन थोडें बहुत ही कम्‍प्‍यूटर यूजर इंगलिश टाइप जानते हैं। लेकिन इंगलिश में टाइप करने के लिये वह जिस की-बोर्ड का इस्‍तेमाल करते हैं वह इंगलिश होता है और की-बोर्ड देख-देखकर आसानी से इंगलिश टाइप कर लेते हैं, हिन्‍दी का की-बोर्ड आसानी से मार्केट में उपलब्‍ध नहीं है। 

दूसरा कारण है हिन्‍दी टाइपिंग का कठिन होना, इंगलिश टाइपिंग के मुकाबले हिन्‍दी में टाइप करना ज्‍यादा कठिन है, क्‍यों कि हिन्‍दी में कई सारी माञाओं आदि का प्रयोग होता है और इंगलिश टाइप सीधे-सीधे टाइप हो जाती है, की-बोर्ड के बटन देख-देखकर कोई बच्‍चा भी इंगलिश टाइप कर सकता है। 

यूजर्स को हिन्‍दी उपकरणों के बारे में कम जानकारी होना भी इसका एक और अहम कारण है, अगर आप हिन्‍दी टाइप नहीं जानते है और आपके पास इंगलिश का की-बोर्ड भी नहीं है तो कोई बात नहीं इन्‍टरनेट पर अब ऐसे कई टूल्‍स मौजूद है जिनसे आप बडी आसानी से हिन्‍दी टाइप कर सकते हो वह भी बिना हिन्‍दी टाइप जाने और अगर आप हिन्‍दी टाइप नहीं जानते हो तो हिन्‍दी बेव डायरेट्रीज के बारे में जानकारी अवश्‍य करें, जहॉ ढेरों हिन्‍दी ब्‍लाग और बेवसाइटों का संग्रह आपको आपकी मनपसंद बेवसाइट तक ले ही जायेगा, 

आइये हिन्‍दी को भी इन्‍टरनेट पर सबसे ज्‍यादा सर्च किये जाने वाली भाषाओं की सूची में शामिल करने में अपना योगदान दें और क्‍योंकि हम बात हिन्‍दी में करते हैं, हम सोचते हिन्‍दी में हैं, हम लिखते हिन्‍दी में हैं, तो फिर इंगलिश में सर्च क्‍यों करें - यहॉ हम कुछ हिन्‍दी बेवडायरेक्‍ट्री का के लिंक दे रहे हैं जो आपको हिन्‍दी बेवसाइटों और ब्‍लॉग तक ले जाने में आपकी मदद करेगें -

ब्लॉग एग्रीगेटर और डायरेक्ट्री

हिन्‍दी सर्च इंजन 

तो हिन्‍दी में पढें, अच्‍छा पढें, बेहतर पढें और  हिन्‍दी को भी इन्‍टरनेट पर सबसे ज्‍यादा सर्च किये जाने वाली भाषाओं की सूची में शामिल करने में अपना योगदान दें धन्‍यवाद 

indian hindi blog, latest hindi blogs, hindi blog language, list hindi directory, hindi bloggers, hindi blog post, poem hindi, indian blog directories, blog in hindi, hindi blog directory, hindi blog sites, hindi blog list, hindi blog post, popular hindi blogs, hindi blog tips, bbc hindi blog, best bloge in hindi, most popular hindi blogs, hindi bloggers, indian hindi blog, hindi blogspot, top 10 hindi blogs, top hindi blog sites, hindi blogs site, hindi blogs tips, hindi blog directory, best hindi blogs, popular hindi blogs, hindi blogs list, hindi blogs tips, Popular Hindi Blogs, Best Indian Blogs, indian blog aggregators, blogwani hindi, hindi blogs, malayalam blog aggregator, music blog aggregator, blog aggregator app, blog aggregator wordpress, arsenal blog aggregator, best blog aggregators, blog aggregators list, Top Sites to Submit India Blogs, Most Popular Hindi, Indian Blog Aggregators, hindi search engine website, list of search engine websites, hindi web search engine, google search engine in hindi, raftaar dictionary

loading...

हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a Comment

Blogger
  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (21-08-2014) को "लेखक बनाने की मशीन" (चर्चा मंच 1712) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार

      Delete
  2. बेहद उपयोगी जानकारी l हिंदी को बढ़ावा देने का हर संभव प्रयत्न करना चाहिए l

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्‍यवाद परितोष जी

      Delete