कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) CD का full form है, कुछ वर्ष पहले CD का प्रयोग Computer Software, Movie और Games को store करने के लिये किया जाता था लेकिन अब कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) की जगह DVD, Blu-ray Disc और USB Storage Device ने ले ली है जैसे वीसीआर (VCR) की जगह CD ने ली थी तो आईये जानते हैं क्‍या है सीडी या कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) - What is Compact Disc in Hindi

कॉम्पैक्ट डिस्क क्या है - What is Compact Disc in Hindi

कॉम्पैक्ट डिस्क क्या है - What is Compact Disc in Hindi

कॉम्पैक्ट डिस्क क्या है - What is Compact Disc

कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) एक ऑप्टिकल डिस्क या एक कंप्‍यूटर स्टोरेज डिस्क है जो डेटा को डिजिटल रूप से स्टोर करती है, Computer में कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) पोर्टेबल और सेकंडरी स्टोरेज डिवाइस के रूप में प्रयोग किया जाता है जिसे आमतौर पर सीडी के नाम से जाना जाता है सीडी ड्राइव एक ऐसा मैकेनिज्म है जिसका उपयोग किसी भी सीडी पर डिजिटल जानकारी को पढ़ने/लिखने के लिए किया जाता है, ये कई तरीके के फॉर्मेट में बाजार में उपलब्ध होती है, CD/R केवल पढने के उद्देश्य के लिए होती है और CD/RW पढ़ने और लिखने दोनों के काम में आती है

History of Compact Disc

सबसे पहली बार सन् 1979 में सीडी का आविष्कार हुआ था इसके एक साल बाद इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स कंपनी Phillips और Sony ने एक टीम बनाकर काम करना स्टार्ट किया ताकि आम नागरिकों को सीडी की टेक्‍नोलॉजी मिल सके, सन् 1982 में आम लोग को सीडी की टेक्‍नोलॉजी मिल चुकी थी आज किसी भी डाटा को स्‍टोर करने का सबसे अच्‍छा तरीका सीडी बन चुकी है

सीडी आम लोगों के बीच बहुत जल्दी बहुत ज्यादा Popular हो गयी क्योंकि इनमें आप केवल उन गानों को सुन सकते हैं जिनको आप सुनना चाहते है अगर आप किसी गाने को सुनना नहीं चाहते हैं तो आप उसे छोड़ सकते हैं, साल 2007 तक पूरे विश्व में तकरीबन 200 बिलियन सीडी बिक चुकी थीं  

सीडी कितने प्रकार की होती है

सीडी ROM (रीड ओनली मेमोरी) दो प्रकार की होती है -
  1. सीडी -R - इसका पूरा नाम सीडी रिकॉर्डेबल होता है, ये ऐसी डिस्‍क होती है जिसमें आप केवल एक ही बार लिख सकते हैं पर लिखे हुए डाटा को कितनी भी बार पढा जा सकता है, इस तरह की डिस्क को किसी भी डिस्‍क रीडर के माध्‍यम से रीड कराया जा सकता है, जब आप इस तरह की सीडी में कुछ भी चीज रिकॉर्ड करते हैं तो उस समय यह बिल्कुल खाली होती है और आपके द्वारा रिकॉर्ड किए हुए डाटा को इसमें आसानी से स्टोर कर सकते हैं
  2. सीडी-RW - सीडी-RW डिजिटल डिस्‍क होती है जिसमें आप किसी भी लिखी हुई चीज को हटा कर बार-बार लिख सकते हैं, ये साधारण सीडी से बिल्कुल विपरीत होती है, और आप इनको साधारण रीडर में रीड तो कर सकते हैं लेकिन राइट करने के लिये आपको सीडी राइटर की आवश्‍यकता होती है जब आप इनमें से डाटा को हटाते हैं तो वो पूरी तरह से खत्म हो जाता है, इनका इस्तेमाल करने का मुख्‍य उद्देश्‍य किसी Confidentially डाटा को कहीं भेजने के लिए किया जाता है, ये सिल्वर, इंडियम, एंटीमनी और टेल्यूरियम की मिश्र धातुओं से बनी होती है

CD में कितना डाटा स्‍टोर किया जा सकता है CD Capacity in Hindi 

वैसे तो Compact Disc कई साइज में आती है लेकिन एक सामान्‍य CD का साइज 4.7 in होता है Capacity 700 MB होती है लेकिन इसमें 737 MB तक डाटा स्‍टोर किया जा सकता है

CD में Data कैसे स्‍टोर किया जाता है

आप तो जानते हैं कंप्‍यूटर केवल बायनरी भाषा को ही समझता है ऑप्टिकल डिस्क सीडी रोम में डाटा को बायनरी रूप में स्टोर करने के लिए हाई इंटेंसिटी और डाटा को पढने के लिये लो इंटेंसिटी वाली लेजर बीम का उपयोग किया जाता है

कॉन्पैक्ट डिस्क में डाटा को स्टोर करने के लिए सीडी राइटर का इस्तेमाल किया जाता है इसमें हाई इंटेंसिटी वाली लेजर किरणे जब सीडी पर पड़ती हैं तुम्हें सीडी पर कहीं गड्ढा बनाती है और कहीं नहीं तू जहां पर यह गड्ढे बनते हैं वह बायनरी में 1 को दर्शाता है और जहां पर गड्ढा नहीं बना होता है उसे लैंड (land) कहते हैं वह बायनरी में 0 को दर्शाता है

इस तरह से डाटा सीडी में राइट कर लिया जाता है अब इस डाटा को पढ़ने के लिए लो इंटेंसिटी वाली यानि कम पावर वाली लेजर किरणों का प्रयोग किया जाता है सीडी अपने ट्रैक पर घूमती है औरलेजर लाइट सीडी में आने वाले गड्ढों और लैंड (land) से रिफ्लेक्ट होकर वापस आती है इस तरह से लाइट को इलेक्ट्रिक सिग्नल में बदला जाता है और डाटा को रीड किया जाता है

How Compact Disc Works

किसी भी साधारण सीडी को मॉडिफाई नहीं किया जा सकता है उन्हें केवल पढ़ा जा सकता है पर सीडी -R डिस्क को एक ड्राइव की आवश्यकता होती है जिससे आप उसमें कुछ लिख सकें क्योंकि इस तरह की डिस्‍क में लेजर लाइट नॉन रिफलेक्टिव एरिया बनाती है, जिसमें एक अतिरिक्त लेयर होती है जो लेजर को आसानी से मॉडिफाई कर सकती है, इसमें जो अतिरिक्त लेयर होती है उसका रंग हरा होता है

किसी साधारण सीडी के ऊपर Aluminum का कवर होता है पर सीडी-R प्लास्टिक से बनी होती है,इसमें Dye और रिफलेक्टिव Gold लेयर होती है, किसी भी नई सीडी-R में डिस्‍क का पूरा सरफेस रिफलेक्टिव होता है जिससे जब कोई लेजर किसी डाई पर पडती है तो वो चमकती है और Gold की लेयर की वजह से वो रिफ्लेक्ट कर जाती है

जब आप किसी भी सीडी-R में लिखते हैं तो आपकी लिखने वाली लेजर ( लिखने वाली लेजर हमेशा सुनने वाली लेजर से ज्यादा ताकतवर होती है ) डाई को गर्म कर देती है और उसकी पारदर्शिता को बदल देती है, ये बदलाव पूरी तरह से होता है, आपकी साधारण सीडी या फिर सीडी-R दोनों डाई को आसानी से पढ़ सकती है

इस सब बातों से यह बात तो साफ हो गयी है कि सीडी की डाई लाइट में आते ही अपना रंग बदल लेती है तो आपको अपनी सीडी-R डिस्क को कभी भी सूरज की रोशनी में नहीं रखना चाहिए

CD के बारे में महत्‍वपूर्ण तथ्‍य

कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) से पहले सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के तौर पर फ्लॉपी डिस्क का इस्तेमाल किया जाता था जो कि एक Magnetic Storage था फ्लॉपी डिस्क की भंडारण क्षमता केवल 1.44 मेगाबाइट से 2.8 मेगाबाइट के बीच होती थी जबकि कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) की भंडारण क्षमता 700mb है जिसमें लगभग 800 फ्लॉपी का डाटा स्टोर किया जा सकता है 

कॉम्पैक्ट डिस्क (Compact Disc) अन्य मैग्नेटिक डिवाइस से ज्यादा पॉपुलर इसलिए हुई क्योंकि एक तो इसमें इनसे ज्यादा डाटा स्टोर किया जा सकता था साथ ही यह आसानी से खराब नहीं होती थी यह बहुत ही हल्की और पॉलिटिकल होती हैं और इन्हें लंबे समय तक डाटा को तोड़ कर के रखा जा सकता है एक बार जब सीडी राइट कर ली जाती है तो उसे कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है और हल्के फुल्के स्क्रैच अगर लग भी जाए तो भी आपका डाटा नष्ट नहीं होता है

How to Play Compact Disc on Computer

अगर आप सीडी को अपने सिस्टम पर चलाना चाहते हैं तो आपको पहले ड्राइव में सीडी को लगाना होगा, सीडी लगाते ही अपने आप चलने लग जाती है, अगर आपकी सीडी ड्राइव में लगाने के बाद भी नहीं चलती तो आप अपने Window Media Player को खोलकर प्लेयर लाइब्रेरी से डिस्‍क का नाम सलेक्ट कर सकते हैं

अगर आपकी सीडी रोम सेफ मोड में सही काम कर रही है पर Windows में नहीं चल रही है तो ये आपके किसी प्रोग्राम के चलने की वजह से हो सकता है या फिर आपकी ड्राइव करप्ट हो गयी है तो इसके लिए आपको अपना डिवाइस मैनेजर खोलना होगा वहां से सीडी को डिलीट बटन के माध्यम से हटा सकते हैं उसके बाद आप अपने सिस्टम को रिबूट करें, Windows आपकी सीडी रोम की समस्या को डिटेक्ट कर लेगी और आप आसानी से फिर से इनस्टॉल कर सकते हैं - 

Advantages of CD ROM

  1. सीडी को बनाना और खरीदना बहुत सस्ता है
  2. सभी कंप्यूटर आसानी से सीडी को रीड कर लेते है, अगर आपके सिस्टम में ड्राइव न हो तो आप इनको डीवीडी ड्राइव में भी आसानी से चला सकते हैं
  3. इसमें आप किसी भी डाटा को तेजी से ट्रांसफर कर सकते हैं
  4. ये इतनी छोटी होती है कि इसे आप आसानी से कही भी ले जा सकते हैं
  5. आप अपनी जरूरी फाइलों को इसमें स्टोर कर सकते हैं

Disadvantages of CD ROM

  1. इनमें आसानी से स्क्रैच और खरोंच लग जाते हैं
  2. अगर इनको आप हार्ड ड्राइव से Compare करेंगे तो इनकी स्‍टोरेज क्षमता बहुत कम होती है

How to Clean Compact Disc

किसी भी सीडी को आप मुलायम फॉम शीट या मुलायम कपडें से आसानी से साफ कर सकते हैं जिससे आपकी सीडी को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है और आपकी सीडी भी साफ हो जाती है या फिर आप अपना Solution भी बना सकते हैं  आप डिस्‍क को शेम्‍पू और पानी मिलाकर को साफ कर सकते हैं पर जब आप अपना Solution बना रहे हो तो आपको अनुपात को ध्‍यान रखने की जरूरत होती है आप शेम्‍पू का एक ड्राप और पानी को तकरीबन एक क्वार्टर लें और इससे आपका Solution बनकर तैयार हो जाता है  


अगर आपकी डिस्‍क में स्क्रैच आ गए हैं तो आप उसे आसानी से टूथपेस्ट से साफ कर सकते हैं जिसके लिए आपको सबसे पहले सीडी को मुलायम कपडें को हल्‍के गुनगुने पानी भिगो कर और साबुन से अच्छी तरह से साफ करना होता है उसके बाद उसे अच्छी तरह से पोछ लें ताकि कोई निशान न रहे उसके बाद टूथपेस्‍ट को सीडी के ऊपर सीधे सीधे लगाएं इससे आपकी सीडी के स्क्रैच आसानी से चले जाएंगे और आपकी सीडी एकदम नई जैसी हो जाएंगी 

Microsoft Excel का कोर्स करें और Free सर्टिफिकेट भी प्राप्‍त करें अभी विजिट करें https://procomputercourse.com/ पर

Other Computer tips and tricks

  1. कम्प्यूटर सीखें हिन्दी में - Learn Computer In Hindi
  2. सीसीसी कंप्यूटर कोर्स क्या है - What is CCC Computer Course Hindi- New *
  3. सीसीसी कंप्यूटर कोर्स इन हिंदी- CCC Computer Course in Hindi
  4. 31 फ्री फुल एक्सेल वीडियो ट्यूटोरियल
  5. कंप्यूटर टिप्स और ट्रिक्स
  6. प्रमुख तकनीकी आविष्कार और आविष्कारक
  7. हमें यूट्यूब पर जॉइन करें और पायें फ्री डेली टेक अपडेट
  8. बेस्ट वेबसाइट सभी के लिये - Best Website For Allदेखना ना भूलें 👈
  9. A to Z कंप्यूटर टर्म्स, डिक्शनरी और शब्दावली - A to Z Computer Terms, Dictionary
  10. PDF Tricks and Tips - पीडीएफ ट्रिक्स और टिप्स
  11. Internet Tips and Tricks - इंटरनेट टिप्स अौर ट्रिक्स
  12. YouTube Tips and Tricks - यूट्यूब टिप्स और ट्रिक्स
  13. Printing Tips - प्रिंटिंग टिप्स
  14. Parental Control Tips - पेरेंटल कंट्रोल टिप्स
  15. How To Guide In Hindi - हाउ टू गाइड हिन्दी में
  16. Google Search Tips and Tricks -गूगल सर्च के टिप्स और ट्रिक्स
  17. Google Now Tips and Tricks गूगल नॉउ टिप्स और ट्रिक्स हिन्दी में
  18. Google Map Tricks and Tips - गूगल मैप के टिप्स अौर ट्रिक्स
  19. Google Drive Tips and Tricks- गूगल ड्राइव के टिप्स अौर ट्रिक्स
  20. Google Chrome Tips and Tricks - गूगल क्रोम के टिप्स और ट्रिक्स
  21. Gmail Tips and Tricks - जीमेल के टिप्स और ट्रिक्स
  22. Cloud computing tips and tricks - क्लाउड कंप्यूटिंग के टिप्स और ट्रिक्स
  23. Facebook Tips and Tricks - फेसबुक के टिप्स और ट्रिक्स
  24. Android tips and tricks - एड्राइड के टिप्स अौर ट्रिक्स
  25. Blogger Tips and Tricks - ब्लागर टिप्स और ट्रिक्स




हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a comment

Blogger