टोरेंट (torrent) शब्‍द इंंटरनेट पर डाउनलोड प्रेमियों के लिये यह बहुत लोकप्रिय है, लेकिन अभी भी बहुत से इंटरनेट यूजर हैं जो नहीं जानते हैं कि  टोरेंट (torrent) क्‍या है और इसके क्‍या फायदे हैं, तो आईये कोशिश करते हैं कि टोरेंट क्या है - What is Torrent ? 

What is Torrent - टोरेंट क्या है

टोरेंट (Torrent) को हिंदी में अर्थ बौछार, प्रचण्ड धारा, झड़ी है, नाम केे अनुसार ही इसकी डाउनलोड प्रकिया है, असल में Torrent Download करने के लिये हमें एक छोटी सी Tracker File की जरूरत होती है, जिसका फ़ाइल एक्सटेंशन (file extension) ".Torrent" होता है, यह खुद में पूरी डाउनलोड फाइल नहीं होती है, यह torrent downloader यह बताती है कि कहॉं से download करना है। 

टोरेंट कैसे काम करता है How Torrent Works

टोरेंट (Torrent) इंटरनेट से फाइल डाउनलोड करने का एक तरीका है, लेकिन यह साधारण डाउनलोड से अलग इसलिये है कि जब आप इंटरनेट से कोई फाइल डाउनलोड करते हैं तो वह किसी एक कंप्‍यूटर सर्वर (Computer Server) से हमारे पास आती है, लेकिन जब आप Torrent के इस्‍तेमाल से कोई फाइल डाउनलोड करते हैं तो वह direct server से ना आकर अन्‍य कंप्‍यूटरों से हमारे पास आती है। 

टोरेंट की भाषा में क्‍या होते हैं सीडर, पीयर और लीच - What are seeds, peers and leeches in Torrents

Seeder - सीडर 

इन जो लोग टोरेंट (Torrent) साइटों पर यह फाइल अपलोड या शेयर करते हैं उन्‍हें सीडर कहते हैं और सीडर यानि "बीज बोने वाला" कहते हैं इनके द्वारा फाइल अपलोड करने की प्रक्रिया सीडिंग (seeding) कहलाती है। 

Peer - पीयर 

जो लोग टोरेंट (Torrent) साइटों पर न केवल डाटा डाउनलोड करते हैं बल्कि अपलोड भी करते हैं और बराबर की साझेदारी निभाते हैं उन्‍हें पीयर यानि शिष्‍ट कहा जाता है। 

Leeches - लीच 

असल में अगर आप टोरेंट (Torrent) से कोई डाउनलोड कर रहें है तो अापको वहॉ फाइल अपलोड करना भी जरूरी है, कुछ लोग हमेशा फाइल डाउनलोड तो कर लेते हैं लेकिन वापस शेयर नहीं करते हैं जिससे टोरेंट (Torrent) फाइल की उपलब्‍धता दूसरे लोगों के लिये कम हो जाती है, ऐसे लोगों को "leeches" यानि "जोंक" कहते हैं। 

इस तरीके से फाइल अपलोड और डाउनलोड करने को peer-to-peer file sharing कहते हैं। जिसमें लोग एक दूसरे को बिना जाने टोरेंट (Torrent) के माध्‍यम से फाइल शेयर करते हैं, टोरेंट (Torrent) के माध्‍यम सेे अक्‍सर बडी फाइलों को शेयर किया जाता है। 

अगर आप किसी टोरेंट (Torrent) फाइल को डाउनलोड कर रहे हैं तो उसकी डाउनलोड स्‍पीड इस बात पर निर्भर करती है कि उस फाइल को किनते लोगों ने सीड किया है, इन सीडर संंख्‍या जितनी ज्‍यादा होगी आपको उतनी अच्‍छी डाउनलोड स्‍पीड मिलेगी।

What are seeds, peers and leeches in Torrents' language, what is seeding in bittorrent, how to increase seeds and peers, How BitTorrent Works, How does seeding work with torrents, what is torrenting, what is torrenting mean, how torrenting works, What is a seeder and what is a LEECHER?

loading...

हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a Comment

Blogger
  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कलमंगलवार (09-08-2016) को "फलवाला वृक्ष ही झुकता है" (चर्चा अंक-2429) पर भी होगी।
    --
    मित्रतादिवस और नाग पञ्चमी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. nice post sir thankou

    ReplyDelete