अगर आप CRPF, CISF, SSC, FCI, CPCT, UP Police Computer Operator का Exam दे रहे हैं तो आपको Mangal Font के Typing Test की तैयारी जरूर कर रहे होगें, लेकिन क्‍या आप जानते हैं क्‍या होता है Mangal Font -

What Is Mangal Font - मंगल (फॉण्ट) क्‍या है

असल में मंगल यूनिकोड (Unicode) पर आधारित फॉण्ट है, विंडोज ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Windows Operating Systems) में यह बतौर हिंदी फॉण्ट (Hindi font) काम करता है, हिंदी के अलावा मंगल फॉण्ट (Mangal Font) का प्रयोग अन्‍य देवनागरी भाषाायें जैसे Sanskrit, Marathi, Nepali, Punjabi को टाइप करने के लिये किया जाता है। मंगल फॉण्ट (Mangal Font) को प्रो॰ रघुनाथकृष्ण जोशी (Raghunath Krishna Joshi) द्वारा बनाया गया था। आज आप इंंटरनेट पर जो हिंदी देख रहे हैं वह प्रो॰ रघुनाथकृष्ण जोशी (Raghunath Krishna Joshi) की वजह से है।  

Mangal Font Software For pc - मंगल फॉण्ट (Mangal Font) के लिये सॉफ्टवेयर 

कंप्‍यूटर में "हिन्दी इंडिक इनपुट सॉफ्टवेयर (Hindi Indic input software)" इंस्‍टॉल करने पर अाप  मंगल फॉण्ट (Mangal Font) में टाइप कर पायेगें। कुछ लोग इसे mangal font software भी कहते हैं। 

Why does the government offices Mangal Font Typing Test- सरकारी कार्यालयों में  मंगल फॉण्ट में क्‍यों होता हैै  टाइपिंग टेस्‍ट - 

यूनिकोड में लिखी किसी भी सामग्री को आसानी से दूसरी भाषा में परिवर्तित किया जा सकता है, बिना Font इंस्‍टॉल किये ही आप इसे पढ सकते हैं, वर्ड और एक्सेल में बिना Kruti Dev फ़ॉन्ट  डाउनलोड किये हिन्‍दी में टाइपिंग की जा सकती है, हिन्‍दी में ई-मेल भेज सकते हो, इसलिये नई भर्तियों के लिये अभ्‍यर्थियों को यूनिकोड मंगल फॉण्ट (Mangal Font) में टाइपिंग टेस्‍ट भी अनिवार्य कर दिया गया है, यहॉ तक कि इंटरनेट पर भी अब हिंदी के लिये केवल यूनिकोड का प्रयोग किया जा रहा है। 

mangal font unicode, mangal font typing, what is mangal font in hindi, Devanagari Fonts, Mangal Regular, How can I use Mangal font

loading...

हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a Comment

Blogger
  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (30-07-2016) को "ख़ुशी से झूमो-गाओ" (चर्चा अंक-2419) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete