अभी हाल ही में 4जी सेवा लॉच हुई है जो काफी चर्चा का विषय बनी हुई है। तो क्‍या है ऐसा खास इस 4जी टेक्नोलॉजी में और यह 1जी, 2जी और 3जी से कितनी दमदार टेक्नोलॉजी है। आईये जानते हैं-

क्या है 4 जी टेक्नोलॉजी - 

1 जी

मोबाइल टेक्नोलॉजी के चौथी पीढी यानि जनरेशन है 4 जी टेक्नोलॉजी। चौथी जनरेशन इसलिये क्‍योंकि इससे पहले इसके तीन जनेरशन और भी आ चुके हैं 1जी, 2जी और 3जी। लेकिन 1जी से पहले क्‍या था ? 1जी से पहले था अापका तारों वाला टेलीफोन। 1जी टेक्नोलॉजी से ही दुनिया का परिचय वायरलेस टेलीफोन से यानि मोबाइल से हुआ, जो बिना तार के कहीं भी आ जा सकता था। लेकिन एनालॉग सिग्नल पर आधारित 1जी टेक्नोलॉजी में कुछ खामियॉ भी थीं जैसे- मोबाइल में खराब आवाज आना, मोबाइल हैण्‍डसेट का बडा अाकार और वजन। साथ ही इसमें डेटा की रफ्तार बहुत कम थी केवल 2.4 kbps, यानि अगर अापको एक 4-5MB का गाना डाउनलोड करना हो तो भी घण्‍टों लग जायें।

2 जी

इन खामियों को दूर किया 2जी टेक्नोलॉजी ने यानि वायरलैस मोबाइल फोन की दूसरी जनरेशन ने। यह तकनीक डिजीटल सिग्नल पर आधारित है, इससे आप फोनकॉल के साथ-साथ इंटरनेट का आनंद भी आराम से ले सकते हैं इस तकनीक के आने पर मोबाइल टेक्नोलॉजी में जैसे क्रांती अा गयी और अभी भी भारत में ज्‍यादातर लोग 2जी टेक्नोलॉजी का ही इस्‍तेमाल कर रहे हैं। लेकिन 2जी की डाटा ट्रांसफर स्‍पीड 236 kbps है, जिससे पिक्चर मैसेज, टेक्स मैसेज और मल्टीमीडिया मैसेज बडें आराम से भेजे जा सकते हैं। लेकिन वीडियो कॉल, वीडियो कांफ्रेसिंग और मोबाइल टेलीविजन के मामले में 2जी सफल नहीं है।

3 जी

बारी अायी 3जी की इसकी डाटा ट्रांसफर स्‍पीड 21 mbps है, जो 2जी के मुकाबले बहुत ज्‍यादा है। इसनें मोबाइल यूजर्स के लिये वीडियो कॉल, वीडियो कांफ्रेसिंग और मोबाइल टेलीविजन के रास्‍ते खोल दिये। विज्ञापनों में भी 3जी के इसी फीचर को दिखाया जाता था, 3जी के आने के बाद मोबाइल और लैपटॉप के लिये स्‍पेशल ऑनलाइन टीवी एप्‍लीकेशन आने लगीं, साथ ही साथ फोन में फ्रंट फेसिंग कैमरा भी आने लगा वीडियो कॉल करने के लिये। जिससे आजकल आप सेल्फ़ी लेते हो। लेकिन याद रहे कि ये सेल्फ़ी वाला कैमरा 3जी की देन है।

4 जी

अभी 3जी का मजा ठीक से इंडिया वाले ले ही नहीं पाये थे कि 4 जी आ धमका, आपकाे जानकर आश्‍चर्य होगा कि 2015 में आने वाली इस 4 जी टेक्नोलॉजी की श्‍ाुरूआत साल 2000 में ही हो गयी थी। वैसे यह तकनीक 3जी के मुकाबले लगभग 5-10 गुना तेज है यानि इसमें इंटरनेट की स्‍पीड 100 Mbps से 1Gbps के लगभग होगी। यानि स्मार्टफोन पर बिना बफरिंग के टीवी देखना, विडियो कॉल करना, मूवी, सॉफ्टवेयर, गेम्‍स डाउनलोड करना चु‍टकियाें का काम होगा। जिस तरह आप अपने कंम्‍प्‍यूटर से कोई फाइल कॉपी करते हो बिलकुल वैसे ही लगेगा, लेकिन वो दिन भी बहुत याद आयेगें जब किसी मूवी को रात को डाउनलोड पर लगा कर सोते थे और सुबह तक सोचते थे कि डाउनलोड हुई होगी या नहीं और डाउनलोड होने पर बहुत खुश हाेते थे। तो 4 जी टेक्नोलॉजी का स्‍वागत कीजिये और इसका आनंद लीजिये।

What are the Benefits of 4G, 3G vs. 4G What's the Difference, What Is a 4G Wireless Network, What is 4G Definition


loading...

हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a Comment

Blogger
  1. एक बात आपने बिलकुल सही कही किए 2G के समय रात को मूव Download पर लगाकर सो जाते थे और उम्मीद करते थे की सुबह तक downloading पूरी हो जाएगी..... लेकिन Speed के इस जमाने में भारत की जनता को, Technology के लिए अन्य देशों की तुलना में बहुत ज्यादा भुगतान करना पड़ रहा है, 3G अभी हांथ लगा ही था की 4G आगया अब शायद 4G को जानने से पहेल की 5G या 6G न launch हो जाए, और अगर ऐसा हुआ भी तो देश में महज गिने-चुने लोग ही इस Technology को afford कर सकेंगे....!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने सही कहा, लेकिन जैसे-जैसे नई टैक्‍नोलॉजी आती है तो पुरानी सस्‍ती हो जाती है,तो शायद जब 6G आयेगा तो 5G सस्‍ता हो जायेगा।

      Delete
    2. The Next step is Google fiber.

      Delete
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन : द माउंटेन मैन - दशरथ मांझी में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  3. sir ji "VOLTE" kya hai jara iske bare maine bhi hamen bataye ji

    ReplyDelete