अक्‍सर आपने अपने देखा होगा कि स्‍कूल, कॉलेज या आॅफिस में कई सारी बेवसाइट ब्‍लॉक कर दी जाती हैं या काेई-कोई बेवसाइट केवल कुछ ही देश में एक्सेस करने की अनुमति होती है। इंटरनेट की कम जानकारी रखने वाले यूजर्स ऐसी वेबसाइट्स को नहीं ख्‍ाोल पाते हैं, लेकिन कुछ यूजर्स ब्लॉक की गई वेबसाइट्स को बडे अाराम से खोल लेते हैं, वो ऐसा कैसे कर पाते हैं ? आईये जानते हैं - 


अगर आपको नहीं पता तो जान लीजिये कि आप इंटरनेट बिना आई0पी0 एड्रेस के नहीं चला सकते हैं, इंटरनेट चलाने के लिये हर कम्‍प्‍यूटर का अपना एक अलग आई0पी0एड्रेस होता है यह एक प्रकार का ऑनलाइन फिंगरप्रिंट है, जिसकी मदद से ही आपके कम्‍प्‍यूटर की लोकेशन आदि का पता चलता है। 

किसी भी साइट को जब ब्‍लॉक किया जाता है तो वह केवल उस संस्‍था या कम्‍प्‍यूटर के आई0पी0 एड्रेस पर ही ब्‍लॉक की जाती है। लेकिन अगर आप वेब प्रॉक्सी सर्वर का यूज करें तो आप किसी भी ब्लॉक वेबसाइट्स काे आसानी से चला सकते हैं। कैसे -


क्‍या होता है वेब प्रॉक्सी सर्वर 

असल में  वेब प्रॉक्सी सर्वर आपके और इंटरनेट के बीच एक बिचौलिया या प्रतिनिधि का काम करता है, जब आप किसी ब्‍लॉक बेवसाइट को वेब प्रॉक्सी सर्वर के जरिये खोलते हैं तो इंटरनेट पर आपका आई0पी0 एड्रेस छुपा दिया जाता है और कोई एक ऐसा आई0पी0 दर्शा दिया जाता है जिस पर वह साइट ब्‍लॉक न हो। इस तरह से आपके और अापके इंटरनेट सर्वर के बीच वेब प्रॉक्सी सर्वर एक बाईपास कनेक्‍शन तैयार कर देता है। जिससे आप ब्लॉक वेबसाइट्स खोल पाते हैं। जब आप ऐसा करते हैं तो आप इंटरनेट पर गुमनाम रहते हैं प्रॉक्सी सर्वर आपकी असली पहचान काे छिपा देता है। 

उदाहरण के लिये अगर आप किसी ब्लॉक वेबसाइट्स को ख्‍ाोलना चाहते हैं तो free-proxyserver.com पर जाईये और साइट का यू0आर0एल टाइप कीजिये और Go पर क्लिक कीजिये। बेवसाइट खुल जायेगी।


loading...

हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a Comment

Blogger
  1. इस अच्छी जानकारी के लिए बहोत बहोत धन्यवाद् , मैं इसे जरुर शेयर करूँगा .

    ReplyDelete